page contents
Home » जीवन मंत्र » पढ़ें तुलसी विवाह की पूरी कथा

पढ़ें तुलसी विवाह की पूरी कथा

देवउठनी एकादशी पर भगवान विष्णु अपनी योग निद्रा से जगते हैं और अपना कार्यभार फिर से संभाल लेते हैं। ये पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी को आता है। जिसके बाद से शादी, बच्चों के मुंडन जैसे शुभ कार्य फिर से प्रारंभ हो जाते हैं। साथ ही इस दिन तुलसी जी का विवाह शालिग्राम भगवान से कराने की भी परंपरा है। शालिग्राम जी को भगवान विष्णु का ही रूप माना जाता है। मान्यता है कि इस विवाह से कन्या दान जैसा पुण्य फल तो प्राप्त होता ही है साथ ही वैवाहिक जीवन में खुशहाली भी बनी रहती है। जानिए आखिर क्यों कराया जाता है तुलसी और शालिग्राम भगवान का विवाह. आज की बड़ी खबरें

– – – – – – – – – Advertisement – – – – – – –

तुलसी विवाह की कथा

एक समय जलंधर नाम का एक पराक्रमी असुर हुआ। इसका विवाह वृंदा नामक कन्या से हुआ। वृंदा भगवान विष्णु की परम भक्त थी। इसके पतिव्रत धर्म के कारण जलंधर अजेय हो गया था। इसने एक युद्ध में भगवान शिव को भी पराजित कर दिया। अपने अजेय होने पर इसे अभिमान हो गया और स्वर्ग की कन्याओं को परेशान करने लगा। दुःखी होकर सभी देवता भगवान विष्णु की शरण में गए और जलंधर के आतंक को समाप्त करने की प्रार्थना करने लगे। भगवान विष्णु ने अपनी माया से जलंधर का रूप धारण कर लिया और छल से वृंदा के पतिव्रत धर्म को नष्ट कर दिया। इससे जलंधर की शक्ति क्षीण हो गयी और वह युद्ध में मारा गया। जब वृंदा को भगवान विष्णु के छल का पता चला तो उसने भगवान विष्णु को पत्थर का बन जाने का शाप दे दिया। देवताओं की प्रार्थना पर वृंदा ने अपना शाप वापस ले लिया। लेकिन भगवान विष्णु वृंदा के साथ हुए छल के कारण लज्जित थे अतः वृंदा के शाप को जीवित रखने के लिए उन्होंने अपना एक रूप पत्थर रूप में प्रकट किया जो शालिग्राम कहलाया। भगवान विष्णु को दिया शाप वापस लेने के बाद वृंदा जलंधर के साथ सती हो गई। वृंदा के राख से तुलसी का पौधा निकला। वृंदा की मर्यादा और पवित्रता को बनाए रखने के लिए देवताओं ने भगवान विष्णु के शालिग्राम रूप का विवाह तुलसी से कराया। इसी घटना को याद रखने के लिए प्रतिवर्ष कार्तिक शुक्ल एकादशी यानी देव प्रबोधनी एकादशी के दिन तुलसी का विवाह शालिग्राम के साथ कराया जाता है।
शालिग्राम पत्थर गंडकी नदी से प्राप्त होता है। भगवान विष्णु ने वृंदा से कहा कि तुम अगले जन्म में तुलसी के रूप में प्रकट होगी और लक्ष्मी से भी अधिक मेरी प्रिय रहोगी। तुम्हारा स्थान मेरे शीश पर होगा। मैं तुम्हारे बिना भोजन ग्रहण नहीं करूंगा। यही कारण है कि भगवान विष्णु के प्रसाद में तुलसी अवश्य रखा जाता है। बिना तुलसी के अर्पित किया गया प्रसाद भगवान विष्णु स्वीकार नहीं करते हैं। मौलाना ने ठुकराई सरकार से बातचीत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *